diamond city of india

हेलो दोस्तों में यहां बताने जा रहा हु diamond city of india के पॉप्युलर शहेर सुरत के बारे मे और सुरत का इतिहास और उसका आने वाला कल केसा होगा.

diamond city of india
https://toprealstories.com/diamond-city-of-india/

surat intro

Contents hide
1 surat intro
1.1 surat diamond city-नाम कैसे पड़ा

यु तो सुरत के बारेमे हम सभी कुछ न कुछ तो जानते ही होंगे पर में यहा surat diamond city नाम कैसे पड़ा ये बताना चाहता हु वैसे तो सूरत दानवीर कर्ण की भूमि भी हे पर उसका इतिहास ऐ कहता हे की सूरत अनेको बार आक्रमण कारीयो प्लेग वायरस अनेक बिखरावो के बाद भी उठ के खड़ा हो जाताहै क्योकि यहा की मिट्टी में कुछ न कुछ अलग जरूर हे। सूरत समुद्र किनारे बसा एक सुन्दर शहरो में से एक हे और सूरत के बीचो बिच से गुजरने वाली सूर्य पुत्री तापी नदी हे जो उसे अधिक सुन्दर बनाती हे यहां के लोगो की हसरत हे की तापी नदी के दोनों किनारो पर अहमदाबाद के जैसा रिवर फ्रंट बन जाये जो सरकार दिलजस्पी ले तो बन भी सकता हे

सूरत मन मोजिलू दरिया दिली और खानपान के शौकीन लोगो का शहेर हे यहा के मूल निवासी को सुरती कहा जाता हे करीब करीब 70 लाख आबादी वाला ऐ शहेर में 15%लोग सुरति ही हे बाकि लोग बाहर से आकर बसे हे. प्रसिद्ध कवी नर्मद भी इसी शहर के थे।

surat diamond city-नाम कैसे पड़ा

 दुनिया में सबसे कीमती चीज कोई हे तो वो हे डायमंड। शरुवात के दिनों में सूरत के पटेल कास्ट ओर बनिया कास्ट के लोगो ने यहां डायमंड का पहला पोलिश यूनिट लगाया था ओर गिने चुने लोग ही डायमंड पोलिश का काम किया करते थे पर जानने वाली बात ये हे की ये वेपार काठियावाड़ी लोगो के हाथोमे क्यों चला गया। कहते की लगभग 65 साल पहले के पटेल कास्ट के लोग जो कर्मठ किसान थे खेति किया करते थे पर सौराष्ट्र में बार बार सूखा और अकाल पड़ने से 450 किलो मीटर दूर सूरत की ऒर रोजी रोटी कमाने चल पड़े.
सूरत में आकर अपनी बुद्धि.महेनत.कुशल कार्य समता और साहस से बहुत कम समय में ही डायमंड वेपार में अपना वर्सश्व कायम कर लिया आए थे तो वो यहां diamod लेबर काम करने मगर कुसी सालो में सूरत में अपना साम्रज्य खड़ा कर लिया यहां के ज्यादा तर वेपारी अनएजुकेटेड हे कहते हे बेजिक शिक्षा भी नहीं ली थी फिर भी इस बिजनेस को अरबो खरबो में ले के गए ओर सूरत को डायमंड सिटी बनादिया

यु कहे तो सूरत की जमी एक उपजाव भूमि कहलाती मगर सोराष्ट्र के काठिया वाड़ी पटेलो ने यहां आकर सूरत को और गति देदी ज्यादातर पटेलों वसवाट के लीये मोटा वराछा ,नाना वराछा और कतारगाम में रहना पसंद करते हे इसीलिए सूरत बड़े आकार में फैलता जा रहा हे ,

textile hub | silk city surat

सूरत में मुख्य बिजनस में डायमंड और टेक्सटाइल आता हे टेक्सटाइल में एक पहलू हे एम्रोडरी. वैसे तो एम्रोडरी दसको पहले भरत के नाम से जाना जाता था और वो हाथो से वाला काम था यहां वो मशीनों से होने लगा .

ऐसे एम्रोदारी कहलाने लगे 2008 की मंडी के दौर में पटेलों ने एम्रोडरीऔर कदम बढ़ाया और कुछ ही सालो में सूरत में 6 लाख से अधिक मशीने 24 घंटे कार्यरत रहने लगे

ओर तो और मशीनों में यूज होने वाले यार्न मेनफेक्सरिंग यूनिट भी बड़ी तादात में लग गए और ये बिजनस आधुनिकरण मशीनों की और बड़ी तेजी से अग्रेसर हे इसी लिए सूरत को सिल्क सिटी भी कहा जाने लगा टेक्सटाइल इंडस्ट्रीज से करीब 20 लाख लोगोको यहा।रोजगार मिलता हे.

surat गुजरात का दूसरा और भारत का आठवा सबसे बड़ा शहर हे यहा की ऐवरेज इनकम गुजरात में सबसे बड़ी हे सूरत में इंटरनेशनल ऐरपोट कार्यरत हे आगामी दिनों में मेट्रो ट्रेन भी कार्य करने लग जाएगी .

  • डायमंड से जुड़े लोगो को बड़े मार्किट की जरूरत थी हाल के दिनों में उस डायमंड बुर्स मार्किट का उद्घाटन होने जा रहा हे वो दिन दूर नहीं सूरत गुजरात का आर्थिक ग्रोथ इंजिन बनने की ओर बड़ी तेजी से चल रहा हे.
  • डायमंड बुर्स मार्किट कार्यरत हो जाएगा तब डायमंड बिजनस पर सूरत का एक सत्र राज होगा.

<इस लेख मे कोइ गलति नजर आये तो कृपा करके मुझे कमेंट करे>

भारत के प्रधान मंत्री की अनसुनी कहानी :Read more

Kuwait City Ki Lifestyle Fashion jewelry most expensive water in the world junk food in hindi Nayi Shiksha Niti